सफलता के लिए समय के अनुसार अपने व्यक्तित्व को करें परिवर्तित: विशाल अरोरा




Listen to this article
  • दिल्ली पब्लिक स्कूल रानीपुर, हरिद्वार में सी.बी.एस.ई. ‘क्षमता निर्माण कार्यशाला’ सम्पन्न

न्यूज 127.
दिल्ली पब्लिक स्कूल रानीपुर में सी.बी.एस.ई के तत्वावधान में राष्ट्रीय पाठ्यक्रम की रूपरेखा पर आधारित एक दिवसीय क्षमता निर्माण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुआ। इस कार्यशाला में दिल्ली पब्लिक स्कूल रानीपुर के सीनियर विंग के 65 शिक्षकों ने प्रतिभाग किया।

कार्यशाला में आए सभी प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए स्कूल के प्रधानाचार्य डॉ0 अनुपम जग्गा ने कहा कि विद्यालय का प्रयास रहता है कि समय-समय पर ऐसे आयोजनों के माध्यम से शिक्षा-जगत से जुड़े सभी लोगों का ज्ञानवर्धन हो जिससे वे अपने छात्रों का उचित मार्गदर्शन कर सकें।

मुख्य वक्ता विशाल अरोरा ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि समय परिवर्तनशील होता है। समय के साथ-साथ चीजें बदलती रही हैं तथा हर क्षण कुछ नया होता रहता है। यदि जीवन में सफल होना है तो हमें भी समय के अनुसार अपने व्यक्तित्व को परिवर्तित करना होगा। आज हमारे सामने हर क्षेत्र में असीम संभावनाएं मौजूद हैं।

विशाल अरोरा ने राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा शिक्षा प्रणाली को माध्यम बनाकर शिक्षण और सीखने की प्रक्रिया को बेहतर बनाने में मदद की। उन्होंने पंचकोश- अन्नमय, प्राणमय, मनोमय, विज्ञानमय और आननदमय कोश के द्वारा शिक्षा- सिद्धान्त को समझाया।

कार्यशाला के दूसरे वक्ता नीरज सिहं ने ज्योतिष शास्त्र और विज्ञान के संबन्ध को दर्शाते हुए ज्ञानवर्धन किया और बताया कि ‘ज्योतिष विज्ञान से परे है, विज्ञान ज्योतिष का एक अंग है’। कार्यक्रम में प्रतिभागियों ने प्रश्नोत्तर एवं विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से लिंग संवेदनशीलता से संबंधित समस्याओं और उनके समाधान, मनोविज्ञान एवं आंतरिक प्रतिनिधित्व से प्राप्त सूचनाओं को दर्शाते हुए चर्चा की, अभिनय किया।

प्रतिभागियों द्वारा बहुविकल्पीय प्रश्नों के माध्यम से ‘राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा’ की शिक्षा प्रणाली पर रोचक एवं ज्ञानवर्धक प्रस्तुति दी गई। प्रधानाचार्य अनुपम जग्गा ने अतिथि वक्ताओं को प्रशस्ति-पत्र तथा स्मृति-चिह्न, पुष्प गुच्छ प्रदान कर उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

कार्यक्रम का संयोजन उपप्रधानाचार्य पविंदर सिंह, अनुपमा श्रीवास्तव एवं मुख्य अध्यापिका आरती बाटला द्वारा किया गया। कार्यक्रम का संचालन स्वाति सैनी एवं कृष हंस ने किया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *