DAV सेंटेनरी पब्लिक स्कूल में समूह कविता वाचन प्रतियोगिता का शानदार आयोजन




दीपक चौहान.
डीएवी सेंटेनरी पब्लिक स्कूल, हरिद्वार के बहुउद्देशीय सभागार में कक्षा तीन और चार के विद्यार्थियों के लिए हिंदी विभाग की ओर से समूह कविता वाचन प्रतियोगिता का शानदार आयोजन किया गया।

समूह प्रतियोगिता में स्कूली बच्चों ने समाज के ज्वलंत विषयों को कविताओं के माध्यम से बेहद सुंदर प्रस्तुतिकरण दिया। प्रत्येक समूह ने अलग-अलग विषयों पर कविता वाचन किया। नन्ने मुन्ने बच्चों के मुख से सामूहिक कविता वाचन के लिए अध्यापक अध्यापिकाओं ने सारगर्भित विषयों का चयन किया।

बच्चों ने अपनी कविताओं में गंगा की उदासी को मनमोहक तरीके से प्रस्तुति दी तो प्रकृति से मनुष्य के जीवन में सरोकार को भी बताया।

समूह प्रतियोगिता में गंगा क्यों उदास है, सीखो प्रकृति से, झांसी की रानी, बुंदेले हर बोल के मुंह हमने सुनी कहानी थी, वीर तुम बढ़े चलो धीर तुम बढ़े चलो और ‘कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती’ जैसी प्रेरणादायक कविताएं दर्शक विद्यार्थियों को को भी प्रेरित कर गईं। विद्यार्थियों के कविता के अनुरूप ही हाव -भाव तथा पोशाक ने कार्यक्रम में चार चांद लगा दिए।

‘गंगा क्यों उदास है’ कविता में गंगा की स्वच्छ व पवित्र लहरों के समान नीले रंग की झलक दिखलाती पोशाक तथा झांसी की रानी कविता में झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, गंगाधर राव, तांत्या टोपे की प्रस्तुति ने कविता में और भी जोश भर दिया। सभा में उपस्थित प्रधानाचार्य, पर्यवेक्षिका व हिंदी विभाग अध्यक्षा कुसुम बाला त्यागी व शिक्षक गण भी नन्हे मुन्ने विद्यार्थियों की इन कविताओं को सुनकर भाव विभोर हो उठे।

विद्यार्थियों की कविता सुनते सुनते ही प्रधानाचार्य मनोज कपिल जी को भी अपने बचपन की एक कविता का स्मरण हो आया और उन्होंने विद्यार्थियों से ‘मैथिलीशरण गुप्त की कविता’ ‘नर हो न निराश करो मन को’ का वाचन करने के लिए कहा। वरिष्ठ समन्वयिका व पर्यवेक्षिका कुसुम बाला त्यागी जी ने सभी बच्चों से कविता का वाचन करवाया। सभी विद्यार्थियों का जोश और उमंग देखते ही बनता था।

प्रधानाचार्य मनोज कपिल जी ने प्रत्येक कार्यक्रम में अपने अनूठे अंदाज में बच्चों का उत्साह वर्धन किया। प्रधानाचार्य मनोज कपिल जी प्रेरणा से विद्यार्थियों ने प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर प्रतिभाग किया। कार्यक्रम के अंत में प्रधानाचार्य जी ने सभी विद्यार्थियों को आशीर्वचन दिए और कहा कि कविताएं जीवन में शिक्षा देने के साथ-साथ उमंग उत्साह लय और गति दे जाती है।

कार्यक्रम को कैमराबद्ध करने का कार्य अनिल शर्मा ने किया। हिंदी विभाग की वरिष्ठ समन्वयिका व पर्यवेक्षिका कुसुम बाला त्यागी, हिंदी समन्वयिका प्रतिमा सक्सेना तथा कक्षा तीन व चार की अध्यापिकाएं सीमा ठाकुर, आयुषी रावत,ममता बोहरा उपस्थित रही।

कार्यक्रम का परिणाम इस प्रकार रहा-
समूह कविता वाचन प्रतियोगिता’ परिणाम
कक्षा चार अ , ब- प्रथम स्थान
कक्षा चार ई, फ -द्वितीय स्थान
कक्षा तीन स, द -तृतीय स्थान
कक्षा चार स, द – सांत्वना पुरस्कार



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *